भारत की खोज किसने की ? | Bharat ki khoj kisne ki ? who discovered India ?

Bharat (India) ki khoj kisne ki ?

Tag:अंग्रेजों ने भारत को क्यों आजाद किया था?

Bharat ki khoj kisne ki ?amrica ki khoj kisne ki, india ki khoj kisne ki



भारत की खोज किसने की ? Bharat ki khoj kisne ki ?

( India ki khoj kisne ki?) यह सवाल आपने कई जगह पर सुना होगा। Bharat ki khoj kisne ki ? और कई लोगों को यह भी कहते हुए सुना होगा कि भारत की खोज वास्कोडिगामा ने की थी, और कई किताबों में भी आपने इसे देखा होगा। 

Bharat ki khoj kisne ki ? आजकल यह सवाल काफी चर्चा में है। परंतु यह कहना बिल्कुल भी सही नहीं होगा कि भारत की खोज वास्कोडिगामा ने की थी।

भारत की खोज किसी ने नहीं की थी। क्योंकि भारत के लोग और भारत पहले से ही मौजूद था और दुनिया को इसके बारे में पता था। और दुनिया के नक्शे में भारत पहले से मौजूद था।

परंतु कई किताबों में व कई इतिहासकारों को यह कहते हुए सुना होगा कि भारत की खोज वास्कोडिगामा ने की थी।


 
Bharat ki khoj kisne ki ?
 वास्कोडिगामा

वास्कोडिगामा :

दरसल वास्कोडिगामा एक समुद्र यात्री था। जो समुद्र के रास्ते देश विदेश में व्यापार करने के लिए जाता था।

पश्चिमी देशों से वास्कोडिगामा समुद्री मार्ग से भारत आने वाला पहला व्यक्ति था। उसने समुद्र के रास्ते भारत आकर समुद्र में एक नया मार्ग बनाया था। ना कि उसने भारत की खोज की थी। 

बचपन से हमें यह पढ़ाया गया है कि वास्कोडीगामा ने भारत की खोज की थी। परंतु यह कहना बिल्कुल भी सही नहीं होगा कि वास्कोडीगामा ने भारत की खोज की थी। Bharat ki khoj kisne ki ?

वास्कोडिगामा ने केवल भारत आने वाले समुद्री रास्तों की खोज की थी। ना कि भारत की खोज की थी।

भारत जहाँ हम आदिमानव युग से यहाँ रह रहे हैं। हजारों सालों से अलग-अलग नामों से इतिहास में भारत का अस्तित्व है। जहाँ हम हजारों सालों से रह रहे हैं भला उसे कैसे कोई खोज सकता है।

यह एक गलत जानकारी है। वास्कोडिगामा के बारे में अधिक जानने के लिए यह पोस्ट जरूर पढ़ें

bharat ki khoj kisne ki
16th India map


भारत में व्यापार :

पहली बार भारत (India) में यूरोपियों का आगमन वास्कोडिगामा के साथ हुआ था। 20 मई 1498 को वास्कोडिगामा ने पहला कदम भारत पर रखा। इस प्रकार अंग्रेजों का पहली बार भारत में आगमन हुआ।

भारत में व्यापार की स्थिति को देखते हुए बहुत सारे देशों ने भारत में व्यापार करने की सोच कर भारत यानी सोने की चिड़िया कहे जाने वाले देश को लूटना चाहा। 

व्यापार के बहाने बहुत सारे देश भारत आए। उनमें से कुछ वे देश है जिन्होंने भारत में व्यापार कर बहुत सारा सोना और भारतीय खजाना भारत से लूट कर ले गए।

  • 1. पुर्तगाल
  • 2. फ्रांस
  • 3. डच
  • 4. हॉलैंड
  • 5. ब्रिटिश


पुर्तगाली :

पुर्तगाल से प्रथम इंसान वास्कोडिगामा जिसने भारत में व्यापार करना चाहा। उसने धीरे-धीरे व्यापार के नाम से भारत से बहुत सारे सोने अपने जहाजों में लादकर वह अपने देश पुर्तगाल ले गया। 


अंग्रेजों का भारत में आगमन, angrejo ka bharat me aagman
East India company


ईस्ट इंडिया कंपनी :


भारत के मसाले विदेशों में बहुत ही ज्यादा प्रचलित थे, इससे मसालों के व्यापार पर एकाधिकार स्थापित करने की महत्वाकांक्षा बढ़ती चली गई। 

और देश-विदेश से बहुत सारे लोग भारत में व्यापार करने के लिए आने लगे। और इसके बाद इंग्लैंड से कुछ अंग्रेज (British) ईस्ट इंडिया कंपनी (East India company)  के नाम से भारत आए और भारत को गुलाम बनाकर 250 वर्षों तक राज किया।


British (अंग्रेज) भारत कब आए थे ?

24 अगस्त 1608 ई. को व्यापार के उद्देश्य से सूरत के बंदरगाह में अंग्रेजों का आगमन हुआ था।
सर विलियम हॉकिंस जो कि ईस्ट इंडिया कंपनी का एक कर्मचारी था, उसने बादशाह जहांगीर से ईस्ट इंडिया कंपनी के नाम से व्यापार करने का एक शाही फरमान जारी करा लिया। और उसने अपना व्यापार करना शुरू कर दिया।

Keyword: bharat ki khoj kisne ki , india ki khoj kisne ki thi uska naam, america ki khoj kisne ki wikipedia, america ki khoj kisne ki thi aur kab ki thi, prithvi ki khoj kisne ki, bharat ki khoj kisne ki video, bharat ki khoj kisne kari, who discovered India, bharat kab ajad hua, who discover india, vaskidigama, indian history, mughal empire, british empire, reyomind,

आपको यह पोस्ट कैसा लगा कृपया कमेंट करके बताएं, और इसी तरह के पोस्ट आगे पढ़ने के लिए हमारी वेबपेज को फॉलो कीजिए

Post a comment

3 Comments